.....

लगे न नज़र इस रिश्ते को ज़माने की

लगे न नज़र इस रिश्ते को ज़माने की,
पड़े न ज़रुरत कभी एक-दूजे को मनाने की,
छोड़ना न कभी आप हमारा ये साथ,
तमन्ना हमारी भी है इसे मौत तक निभाने की।

1 शायरी पसंद आने पर एक टिप्पणी (Comment) जरूर लिखे।:

Umar Ansari 3 May 2015 at 8:56 AM  

nice work.
hello reader if you want more Hindi Shayari Urdu SHayari you can visit here.

Post a Comment

Please like this website on facebook

फेसबुक उपयोगकर्ता के लिए टिप्पणी करने हेतु आसान टिप्पणी बॉक्स

  © World Of Hindi Shayari. All rights reserved. Blog Design By: Jitmohan Jha (Jitu)

Back to TOP