.....

इन हसीनो से रस्मे वफ़ा..

इन हसीनो से रस्मे वफ़ा,
और दिल लगाना सरासर भूल है,
जिस दिन ये इकरार करें मोहब्बत का,
समझ लेना उस दिन अप्रैल फूल है।

Post a Comment

Please like this website on facebook

फेसबुक उपयोगकर्ता के लिए टिप्पणी करने हेतु आसान टिप्पणी बॉक्स

  © World Of Hindi Shayari. All rights reserved. Blog Design By: Jitmohan Jha (Jitu)

Back to TOP