.....

हुस्न पर जब भी मस्ती छाती है

हुस्न पर जब भी मस्ती छाती है,
तब शायरी पर बहार आती है,
पीके महबूब के बदन की शराब,
जिंदगी झूम-झूम जाती है!

1 शायरी पसंद आने पर एक टिप्पणी (Comment) जरूर लिखे।:

Shayri Shayrisms 16 July 2014 at 4:43 PM  

Is sayri ko padh kr dilva jhum jhum gya , aisi hi aur mast sayri aur padne k liye dekhe -http://shayrisms.com/

Post a Comment

Please like this website on facebook

फेसबुक उपयोगकर्ता के लिए टिप्पणी करने हेतु आसान टिप्पणी बॉक्स

  © World Of Hindi Shayari. All rights reserved. Blog Design By: Jitmohan Jha (Jitu)

Back to TOP